Menu

Attitude Shayari

Attitude is main component of a person. To define your attitude you need some shayari’s of course.
Shayari Pro provides you top new high attitude Hindi and English Shayari. We provide you new attitude shayari for boys as well as girls. If you want to update your Whatsapp status, you can update with our shayari’s. Put a shayari on attitude on Whatsapp, Facebook, Instagram, and any social networking story in Hindi as well as English.
We also provide 2 lines attitude shayari , attitude sms, attitude quotes, attitude shayari wallpaper or images. You can have my attitude shayari in hindi or English, 2017 shayari for new generation full attitude or more can be found here. Overall you will get latest updated new/recent/daily updated shayari ‘s for you and your mates on shayari pro.


Shayari on Attitude
New Shayari on Attitude
Sanjeedgee ka maseeha bhee thithauliyon par utar aaye,
Kitne shaatir hain log kamabakht adab kee lahaje mein.

संजीदगी के मसीहा भी ठिठौलियों पर उतर आये,
कितने शातिर है लोग कमबख्त अदब के लहजे में

Post By: Aaradhya Patel
New boys attitude shayari
Jehan mein jo hamesha rahe, vo sapana nahin hoga,
Jise yaad karana pde wo apna nahin hota.

जेहन में जो हमेशा रहे, वो सपना नही होता,
जिसे याद करना पड़े वो अपना नही होता !

Post By: Aaradhya Patel
New Recent updated attitude shayari
Bandagee hai khuda ki, yah tasavvuph ka muaamala hai,
Ishk har kisee ko mayassar nahi hua krta...
Bna to lete hain log rihaayash ki imaaraton lekin,
Har imart ka vajood to ghar nahin hua krta..

बंदगी है खुदा की, ये तसव्वुफ का मुआमला है
इश्क हर किसी को मयस्सर नही हुआ करता...
बना तो लेते है लोग रिहायश की इमारतें लेकिन
हर इमारत का वजूद तो घर नही हुआ करता..

Post By: Aaradhya Patel
New Sad Shayari on Attitude
khairaat ke mashavaron aur jhooth taareefon kee jaal mein ...
kapkapaati rahee jindagi ...
bheed kisee khanjar kee tarah dhsee rahee umr bhar ...
sisakata raha bas rooh kee gaharaheyo mein khud ka hona.....
khud kee barbaadee ke khud hee rahana ham csmdeed

खैरात के मशवरों और झूठी तारीफों के जाल में...
कंपकंपाती रही जिन्दगी...
भीड़ किसी खंज़र की तरह धँसी रही उम्रभर...
सिसकता रहा बस रूह की गहराईयों में खुद का.होना.....
खुद की बरबादी के खुद ही रहे हम चश्मदीद...

Post By: Aaradhya Patel

Attitude Ghazal shayari
बदसूरती से निकले बगैर जो जिंदगी की खूबसूरती की बात करते है वे सब के सब झूठे है
पूछिये उस औरत से जो तेजाबी हमलें मे चेहरा गवाँ बैठी,
वो बतायेगी रूप सौन्दर्य की कीमत..

चरित्रहीनता से निकलके खुद की पुनर्स्थापना के बगैर उच्चे आदर्शों के परचम बाँटने वाले सबके सब फर्जी है..
पूछिये हवस की शिकार उन युवतियों से जिन्हे छुड़ाया गया हो देहव्यवसाय के शिकंजों से,
वे बतायेगी मान मर्यादा और नैतिक आचरण क्या है...

प्रेम को जिये बगैर जो प्रेमगीत लिखते है वे सब शब्दों के बाजीगर है..
प्रेम क्या है जाकर पूछिये उससे जो समूचे दिन और समूची रातों में
पूरी तरह टूटकर..
अपने फर्ज की मजबूरियों के बीच प्रेमविरह में अकले जीते है.

धर्म की दुहाई में रटे रटाये प्रवचनों से मुक्ति का प्रसाद बाँटने वाली कवायदें क्या गुल खिलायेगी.
सुख शाँति और जीवन की सार्थकता पूछिये उनसे जो अपने कर्तव्य की व्यस्तता में परमात्मा को भी वक्त नही दे पाते..
पूछिये उनसे जीवन के विविध आयामों की वास्तविकता क्या है जो उधार की जानकारियाँ नही रखते..
जो अनुभव जीते है पल पल जीवन के उतार चढ़ाव से गुजरके..
जिन्होने जीवन को जीवन की तरह धरातल पर जाना है..

Post By: Aaradhya Patel
2 lines attitude shayari
Kitana bhi darya ki mojo pe hukumat kar lo,
Jariya e sabr ki surat mei ada haq honge.

Post By: Aaradhya Patel
Recent updated attitude shayari
Baras bhi jaye jamin pe ye tutake fir bhi,
naam badal ka nhi hoga aabpashi mei...
Aabpashi ...sinchai

Post By: Aaradhya Patel
ध्यान को विशेष अर्थों मे लेने पर ही यह जटिल होकर
dhyaan ko vishesh arthon mein lene par hee yah jatil hokr,
aantarik vh baaharee bhaav bhaangimaon mein bhekharke rah jaata hain ..
dhyaan ka arth hai ki jis prkar ham baahari vastuen ke prati chaukanna rahate hain,
usee prakaar apanee aantarik bodh kee chimmayta kee prati sajag ho jaaye..

ध्यान को विशेष अर्थों मे लेने पर ही यह जटिल होकर,
आंतरिक व बाहरी भाव भंगिमाओं में बिखरके रह जाता है..

ध्यान का अर्थ है कि जिस प्रकार हम बाहरी वस्तुओं के प्रति चौकन्ना रहते है
उसी प्रकार अपने आंतरिक बोध की चिन्मयता के प्रति सजग हो जाये..

Post By: Aaradhya Patel

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

(Required)
(Required)




Keeping sharing simple...


© Copyright 2017-2018 Shayari Pro